19 October, 2010

my painting

Radha
krishna










Bhawna

4 comments:

सहज साहित्य said...

आप तो सब्दों की जादूगर हैं , लेकिन तूलिका की जादूगरी भी कम नहीं है । राधा की समूची वेदना मुखमण्डल पर उतर आई है । बहुत बहुत बधाई भावना जी ऽअप शब्दों और रंगो का सुअन्दर्य बेखेरती रहें ।

Udan Tashtari said...

बहुत सुन्दर चित्रकारी..वाह!!

विजय तिवारी " किसलय " said...

bhaavnaa jee.
its realy art...
- vijay

Sawai SIingh Rajpurohit said...

रंग के त्यौहार में
सभी रंगों की हो भरमार
ढेर सारी खुशियों से भरा हो आपका संसार
यही दुआ है हमारी भगवान से हर बार।

आपको और आपके परिवार को होली की खुब सारी शुभकामनाये इसी दुआ के साथ आपके व आपके परिवार के साथ सभी के लिए सुखदायक, मंगलकारी व आन्नददायक हो। आपकी सारी इच्छाएं पूर्ण हो व सपनों को साकार करें। आप जिस भी क्षेत्र में कदम बढ़ाएं, सफलता आपके कदम चूम......

होली की खुब सारी शुभकामनाये........

सुगना फाऊंडेशन-मेघ्लासिया जोधपुर,"एक्टिवे लाइफ"और"आज का आगरा" बलोग की ओर से होली की खुब सारी हार्दिक शुभकामनाएँ..

समय मिले तो ये पोस्ट जरूर देखें.
"गौ ह्त्या के चंद कारण और हमारे जीवन में भूमिका!"
लिक http://sawaisinghrajprohit.blogspot.com/2011/03/blog-post.html

आपका कीमती सुझाव और मार्गदर्शन अगली पोस्ट को और अच्छा बनाने में मेरी मदद करेंगे! धन्यवाद…..